top of page
Search

घुटनों के दर्द से जूझते बुजुर्ग दर्शनार्थ नहीं आ पाते, सीढ़ी में लगाई स्लाइडिंग चेयर मंदिर जा सकते है

Updated: Jul 21, 2019


  • श्री दिगंबर जैन समाज मंदिर स्टेशन रोड पर अनूठा प्रयोग

  • बुजुर्गों के मंदिर आने में आ गई थी कमी, प्रबंधन ने निकाला हल

जोधपुर. रेलवे स्टेशन स्थित श्रीदिगंबर जैन मंदिर में बुजुर्गों के घुटनों की तकलीफ को ध्यान में रखते हुए उनके लिए मंदिर की सीढ़ियों के पास एक स्लाइडिंग चेयर लगाई गई है। अब मंदिर में आने वाली बुजुर्ग महिलाओं और पुरुषों को निज मंदिर तक जाने के लिए सीढ़ियां नहीं चढ़नी पड़ेंगी, वे कुर्सी पर बैठकर स्लाइडिंग सीढ़ी से आ-जा सकेंगे।


दीपक जैन ने बताया कि पिछले कई महीनों से बुजुर्ग मंदिर आना बंद हो गए थे, उनके बारे में जानकारी लेनी चाही तो पता चला कि वे मंदिर में दर्शन के लिए सुबह-शाम आना तो चाहते हैं, लेकिन घुटनों में तकलीफ के चलते सीढ़ियां नहीं चढ़ सकते। इसी को ध्यान में रखते हुए पिछले दो माह से गहन चिंतन के बाद निज मंदिर तक एक स्लाइडिंग सीढ़ी लगाई है। इससे मंदिर आने वाले करीब 50 बुजुर्ग जो घुटनों की समस्या के चलते मंदिर नहीं आ रहे थे, वे अब दुबारा सुबह-शाम आने लगे हैं।


अस्पताल में देखने के बाद आया विचार मंदिर में जब समाज के बुजुर्गों से बात की तो सामने आया कि घुटनों की तकलीफ के कारण कई बुजुर्ग मंदिर नहीं आ रहे हैं। ऐसे में एमडीएम अस्पताल के पास एक निजी चिकित्सालय में बुजुर्गों के लिए अस्पताल परिसर व डॉक्टर के चैंबर में जाने के लिए स्लाइडिंग सीढ़ी का इस्तेमाल होते देखा तो मंदिर में उस मशीन को लगाने की कवायद शुरू कर दी।


समाज ने दिल्ली से मशीन लाने का किया फैसला जैन ने बताया कि कई जगहों पर बात करने व कंपनी से संपर्क करने के बाद समाज के एक व्यक्ति ने उस मशीन को दिल्ली की एक कंपनी से खरीदने की बात कही। स्लाइडिंग सीढ़ी की कीमत डेढ़ लाख रुपए बताई गई। इस पर दिल्ली निवासी समाज के एक व्यापारी ने वह मशीन यहां के बुजुर्गों के लिए भेजी।

Recent Posts

See All

4 Digambar Diksha at Hiran Magri Sector - Udaipur

उदयपुर - राजस्थान आदिनाथ दिगम्बर चेरिटेबल ट्रस्ट द्वारा 15 अगस्त को आचार्य वैराग्यनंदी व आचार्य सुंदर सागर महाराज के सानिध्य में हिरन मगरी सेक्टर 11 स्थित संभवनाथ कॉम्पलेक्स भव्य जेनेश्वरी दीक्षा समार

コメント

5つ星のうち0と評価されています。
まだ評価がありません

評価を追加
bottom of page