Search

Mumukshu Khushi Shah's Diksha



'इस दुनिया की जितनी भी खुशियां हैं वो स्थायी नहीं हैं, सिर्फ साधारण जीवन जीने से ही शांति और मोक्ष मिल सकता है' यह कहना है सूरत में रहने वाली 12 साल की बच्ची खुशी का। खुशी शाह ने जिंदगी के ऐशो आराम छोड़कर जैन दीक्षा ले ली है। बुधवार 29-May को उन्हें जैन दीक्षा दिलाई गई।


खुशी के घर में वो अकेली ऐसी नहीं हैं जिसने दीक्षा ली हो। इससे पहले उनके परिवार में चार लोग भी जैन दीक्षा ले चुके हैं। खुशी बताती हैं कि जब मैं चार साल की थी तो परिवार के चार लोगों ने भी जैन दीक्षा ले ली थी। 

खुशी के पिता विनीत शाह एक सरकारी कर्माचारी हैं। उनका कहना है कि यह हमारे लिए एक गर्व का विषय है। एक बार संत बन जाने के बाद वह कई लोगों के जीवन में उजाला करेगी।  खुशी ने छठी क्लास में 97 फीसदी अंक मिले हैं और उसने नवंबर में स्कूल छोड़ दिया है। उनके पिता बताते हैं कि खुशी हजारों किमी अकेले पैदल चलकर पूरी कर चुकी है





Recent Posts

See All

उदयपुर - राजस्थान आदिनाथ दिगम्बर चेरिटेबल ट्रस्ट द्वारा 15 अगस्त को आचार्य वैराग्यनंदी व आचार्य सुंदर सागर महाराज के सानिध्य में हिरन मगरी सेक्टर 11 स्थित संभवनाथ कॉम्पलेक्स भव्य जेनेश्वरी दीक्षा समार