Search

13 वर्षीय मुमुक्षु हर्षिता जैन अब साध्वी हर्षितगुणाश्रीजी कहलाएगी


मध्यप्रदेश धार राजगढ़ बुधवार को प्रातःकाल की वेला में आदिनाथ राजेन्द्र जैन श्वे. पेढ़ी ट्रस्ट मोहनखेड़ा तीर्थ के तत्वावधान में 13 वर्षीय मुमुक्षु हर्षिता जैन की दीक्षा की विधि आचार्य ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी की निश्रा में मंत्रोच्चार से हुई। दीक्षा से पूर्व मुमुक्षु हर्षिता जैन को दीक्षा पांडाल में गाजते-बाजते हाथी पर धर्म के पिता राजेन्द्र खजांची वर्षीदान करवाते हुए लेकर आए। दीक्षा पांडाल में मुमुक्षु ने सर्वप्रथम चौमुखी में विराजित प्रभु को गहुली कर वंदन किया तत्पश्चात दीक्षा की विधि हुई। मुमुक्षु हर्षित के धर्म के माता-पिता राजेन्द्र खजांची एवं अंगुरबाला खजांची व जन्म के माता-पिता दोनों का सम्मान ट्रस्ट की ओर से किया। संयम जीवन के उपयोग में आने वाले सभी उपकरणों के चढ़ावे समाजजनों ने उत्साह के साथ लेकर उपकरण आचार्य को वोहरा कर पुनः प्राप्त कर साध्वी भगवंतों को वोहराए। मुमुक्षु को विजय तिलक भीनमाल के भंवरलालजी दरगा जोगाणी परिवार ने लगाकर दीक्षा के संयम मार्ग की और विदा किया।

दीक्षा से पूर्व मुमुक्षु हर्षिता जैन को पांडाल में गाजे-बाजे के साथ हाथी पर धर्म के पिता राजेन्द्र खजांची वर्षीदान करवाते हुए लेकर आए।

रजोहरण प्राप्त करते ही दीक्षार्थी खुशी से झूम उठी और पांडाल में नृत्य किया

देखते-देखते मुमुक्षु को आचार्य ने रजोहरण प्रदान किया। रजोहरण प्राप्त करते ही दीक्षार्थी खुशी के चलते झूम उठी और पांडाल में नृत्य करने लगी। यहां से मुमुक्षु को उठाकर वेश परिवर्तन के लिए ले जाया गया। कुछ ही देर में मुमुक्षु वेष परिवर्तन कर पुनः पांडाल में आई तब वह साध्वी के वेष में आई। वेष परिवर्तन के साथ केशलोचन किया। पांडाल में आने के पश्चात साध्वी महेंद्रश्रीजी की शिष्या वरिष्ठ साध्वी किरणप्रभाश्रीजी के वरद हस्तों से नूतन साध्वीजी का पंचमुष्ठी केशलोचन किया। मुमुक्षु हर्षिता जैन से बनी नूतन साध्वी को साध्वी हर्षितगुणाश्रीजी का नाम आचार्य के मुखारविंद से प्रदान किया। आचार्य ने कहा अब हर्षिता साध्वी किरणप्रभाश्रीजी की शिष्या के रुप में साध्वी हर्षितगुणाश्रीजी के नाम से जानी एवं पहचानी जाएगी।

दीक्षा महोत्सव का प्रसारण 12 जून को होगा आचार्य ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी व उनके आज्ञानुवर्ती मुनि हितेशचन्द्रविजयजी, पीयुषचन्द्रविजयजी, दिव्यचन्द्रविजयजी, रजतचन्द्रविजयजी, पुष्पेन्द्रविजयजी, नीलेशचन्द्रविजयजी, रुपेन्द्रविजयजी, प्रीतियशविजयजी एवं वरिष्ठ साध्वी किरणप्रभाश्रीजी, सद्गुणाश्रीजी, संघवणश्रीजी आदि ठाणा के सानिध्य में प्रातःकाल की वेला में हर्षिता जैन की दीक्षा हुई। तीर्थ पर आयोजित होने वाले दीक्षा महोत्सव का 12 जून को शाम 7.20 बजे से प्रसारण पारस टीवी चैनल पर होगा।