Search

25 वाहनों में सजे कमल पर जैन ग्रंथाें की शोभायात्रा निकाली


भीलवाड़ा

श्रुत पंचमी पर्व शनिवार काे मुनि सुधासागर महाराज के सान्निध्य में मनाया। इसके पहले मुनि संघ का मंगल प्रवेश नेमिनाथ दिगंबर जैन मंदिर सुभाषनगर में हुआ। ट्रस्ट के अध्यक्ष राजेंद्र बाकलीवाल ने बताया कि सुबह 5:30 बजे मुनिसंघ ने आमलियों की बाड़ी से विहार किया। संयोजक अशोक कांटीवाल ने बताया कि लव गार्डन से प्रारंभ शाेभायात्रा में घुड़सवार नवयुवक जैन ध्वज लिए थे। इनके पीछे बैंड की धुन पर सुभाषनगर बालिका मंडल की सदस्य रिबन नृत्य कर रही थीं। महिलाएं भी धर्म ध्वज लिए चल रही थीं। गुजराती पाेषाक पहने महिला महासमिति आरके कॉलोनी की सदस्याओं ने पूरे रास्ते भूमि शुद्धि की। इनके पीछे 25 वाहनाें में सफ़ेद पोषाक व साफे पहने पुरुष कमल पर जैन ग्रंथ लिए हुए थे। पीछे मुनि संघ और श्रावक चल रहे थे। सचिव अरविंद अजमेरा ने बताया कि श्रुत पंचमी पर्व पर पूजन संगीतकार पंकज जैन के सान्निध्य में हुआ। इसके बाद मुनि ने धर्मसभा को संबोधित किया।

नेमिनाथ भगवान का 108 कलशों से अभिषेक

प्रवक्ता त्रिलोक गोधा एव लोकेश पाटनी ने बताया कि सुभाष नगर में मंगल प्रवेश के बाद मुनि ने नेमिनाथ भगवान का 108 कलशों एवं रिद्धि मंत्रों से अभिषेक एव शांतिधारा करवाई।

श्रुत पंचमी पर मुनि संघ का आमलियों की बाड़ी से विहार, नेमिनाथ दिगंबर जैन मंदिर सुभाषनगर में मंगल प्रवेश

दो आचार्यों के सान्निध्य में जैन मंदिर में पहली बार हुआ सहस्त्राभिषेक

बापूनगर पीएनटी चौराहा स्थित संभवनाथ मंदिर का आठवां वार्षिक उत्सव शुक्रवार को मनाया गया। मंदिर के इतिहास में पहली बार दो आचार्यो निपुणर| विजय एवं पद्मभूषण विजय के सान्निध्य में सहस्त्राभिषेक किया गया। इससे पहले सुबह 8 बजे वरघोड़ा निकाला जाे विभिन्न मार्गो से होते हुआ मंदिर पहुंचा। सुबह 10 बजे मंदिर शिखर पर मनीष बापना ने ध्वज चढ़ाया। दोपहर दो से शाम 5 बजे तक सहस्त्राभिषेक हुआ। शांतिलाल बोरदिया ने केसर, स्वर्ण भस्म, पंचामृत, चावल एवं फूलों से अभिषेक किया। शाम को 108 दीपक से भगवान की आरती की गई। इस दौरान मंदिर परिसर में बड़ी संख्या में श्रावक श्राविकाएं मौजूद थे। वार्षिक समारोह में वरिष्ठ श्रावक गुणवंत जैन, अनिल बोरदिया, विनय गोलेछा, जीतेंद्र कावड़िया, ललित कर्नावट एव अनिल विशलोत आदि उपस्थित थे। आचार्य ससंघ शनिवार सुबह 5:30 बजे महावीर भवन बापूनगर से पुर की ओर विहार करेंगे।