Search

क्रोध, घमंड, लालच रूपी शत्रु को समाज से मिटाना जरूरी


हरयाणा - सोनीपत :- शहरी स्थानीय निकाय महिला एवं बाल विकास मंत्री कविता जैन ने प्रदेशवासियों को 24वें र्तीथकर भगवान महावीर के जन्म कल्याणक महोत्सव की शुभकामनाएं देते हुए आमजन से आह्वान किया कि वह समाज को मजबूत करने के लिए अपने अंदर के शत्रु रूपी क्रोध, घमंड, लालच, आसक्ति और नफरत को निकाल फैंके। उन्होंने कहा कि जब तक मन स्वच्छ नहीं होगा, तब तक हमारी भावना जनकल्याण के अनुरूप नहीं हो सकती। उन्होंने विशेषकर युवा वर्ग से धर्म पताका फहराने तथा सकारात्मक तरीके से जीवन में आगे बढने का आह्वान किया। मिशन चौक के पास स्थित श्री दिगंबर जैन मंदिर परिसर से प्रारंभ भव्य शोभायात्रा को महिला एवं बाल विकास मंत्री कविता जैन एवं मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार राजीव जैन ने रवाना किया। इससे पूर्व श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए महिला एवं बाल विकास मंत्री कविता जैन ने कहा कि भगवान महावीर की विचारधारा समाज और राष्ट्र को एकजुटता के सूत्र में बांधने तथा भाईचारे की भावना से सशक्त करने की हैं। उन्होंने कहा कि उनकी दूरदर्शी विचारधारा आज भी उतना ही प्रासंगिक और जरूरी हो गई है, जितना उनके काल में थी। मंत्री कविता जैन ने कहा कि भगवान महावीर ने केवल जैन समुदाय ही नहीं, अपितु राष्ट्र.विश्व के प्रत्येक नागरिक को सकारात्मक दिशा में आगे बढने के लिए अहिंसा, सत्य, अत्येय, ब्रम्हचर्य और अपरिग्रह का दर्शन सिधांत दिया। मानव जीवन में शांतिपूर्ण तरीके से जीने तथा दूसरों को समान अवसर के साथ जीने देने के सिधांत से जहां भाईचारे की भावना मजबूत होगी है वहीं आपसी मेल.मिलाप भी बढता है। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में हमें भगवान महावीर की विचारधारा को आत्मसात करते हुए युवावर्ग को विशेषकर धर्म पताका को मजबूती से फहराने का अवसर प्रदान किया। मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार राजीव जैन ने कहा कि सुख.दुख में प्रत्येक जीव के साथ अपने प्रति रखी जाने वाली भावना रखने से हमें अहसास होता है कि सम्मुख जीव का भी जीवन उतना ही महत्वपूर्ण होता है जितना हमारा स्वयं का। उन्होंने कहा कि हमें भगवान महावीर के दिखाए रास्ते पर चलते हुए अपने कुविचारों पर विजय पाने के लिए मेहनत करनी चाहिए। इससे जहां समाज के अंदर सकारात्मकता का प्रभाव बढेगाए वहीं सामाजिक बंधन भी मजबूत होगा।